Depression Symptoms in hindi – डिप्रेशन क्या है और इसके लक्षण क्या है ?

Depression Symptoms in hindi
Share with your friends.

आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में हम सभी ने जिंदगी के किसी ना किसी पड़ाव में खुद को निराश या उदास जरूर महसूस किया होगा| जिंदगी में उतार-चढ़ाव, असफलता, संघर्ष या फिर कभी कभी किसी अपने से बिछड़ने के कारण हमें उदासी और निराशा महसूस होती है लेकिन यदि आप की लाचारी, निराशा और उदासी कुछ दिनों, कुछ हफ्तों  से लेकर महीनों तक होती है  तो यह डिप्रेशन अर्थात अवसाद नामक बीमारी के लक्षण हो सकते हैं  आज मैं आपसे इसी विषय में बात करने वाला हूं की डिप्रेशन क्या है और डिप्रेशन के लक्षण क्या है Depression Symptoms in hindi साथ हम बात करेंगे  डिप्रेशन के उपचार के बारे में :-

WHO  के अनुसार दुनिया भर के 40 करोड़ से ज्यादा लोग इस समस्या से ग्रस्त हैं और भारत में इस बीमारी से सबसे ज्यादा लोग प्रभावित है यह एक बहुत गंभीर समस्या है। सामान्यता यह किशोरावस्था या फिर 30 से 40 वर्ष की आयु मैं शुरू होती है लेकिन यह किसी भी उम्र में हो सकती है। पुरुषों के मुकाबले इसके महिलाओं में होने की संभावना अधिक होती है।

यह एक मानसिक समस्या है लेकिन यह आपको शारीरिक रूप से प्रभावित करती है मानसिक कारणों के अलावा डिप्रेशन महिलाओ में हार्मोन के असंतुलन, गर्भावस्था और अनुवांशिकी विकृति भी डिप्रेशन का कारण हो सकती है।

Depression Symptoms in hindi – डिप्रेशन क्या है और इसके लक्षण क्या है ?

What is Depression – डिप्रेशन क्या है ?

डिप्रेशन जिसे हम अवसाद के नाम से भी जानते हैं यह एक मानसिक समस्या है लेकिन शारीरिक रूप से प्रभावित करती है। डिप्रेशन से ग्रस्त व्यक्ति स्वयं को हमेशा अकेला, असफल और निराश महसूस करता है। इस बीमारी से ग्रस्त व्यक्ति शारीरिक लक्षणों के चलते इलाज कराता है लेकिन मानसिक स्थिति पर उसका ध्यान नहीं जाता।

डिप्रेशन का इलाज किसी मनोरोग चिकित्सक द्वारा ही संभव है इसके लिए आपको किसी मनोरोग चिकित्सक से मुलाकात करनी होगी और डिप्रेशन के कारणों का पता करना होगा और यह डिप्रेशन से ग्रस्त व्यक्ति के लिए कुछ जरूरी है।

यह एक मानसिक समस्या है लेकिन यह आपको शारीरिक रूप से प्रभावित करती है,डिप्रेशन जिसे हम अवसाद के नाम से भी जानते हैं

Cause of Depression – डिप्रेशन का कारण

डिप्रेशन की समस्या Depression Symptoms in hindi एक सामान्य लेकिन गंभीर समस्या है जिसके चलते इस समस्या से ग्रस्त व्यक्ति स्वयं को निराशा और अकेला महसूस करता है। जिस कारण वह स्वयं को इस समस्या से और ज्यादा ग्रसित करता है। सामान्यतः डॉक्टर के अनुसार कुछ विशेष लक्षण पहचाने गए हैं जो से ज्यादा डिप्रेशन में व्यक्ति को प्रभावित करते हैं जैसे थकावट, आलस्य, चिड़चिड़ापन, दुबलापन या मोटापा, सर दर्द और अपचन शरीर के वजन में अचानक वृद्धि या फिर कमी।

अगर बात करें डिप्रेशन के कारणों की तो कुछ विशेष कारण है जैसे जेनेटिक्स (अनुवांशिकी), उम्र, लिंग, हारमोंस का  असंतुलन होना, अन्य बीमारी, व्यक्तिगत समस्या आदि। तो चलिए इन सभी के बारे में विस्तार से जान लेते हैं :-

  1. जेनेटिक (अनुवांशिकी) – जेनेटिक्स डिप्रेशन का  एक जटिल कारण हो सकता है जबकि डिप्रेशन को पैदा करने वाले  जीन का पता करना बहुत कठिन कार्य है परिवार में अनुवांशिकी आधार पर डिप्रेशन की समस्या उत्पन्न होती है।
  2. लिंग – पुरुषों की तुलना में डिप्रेशन की समस्या महिलाओं में ज्यादा देखी गई है महिलाओं को इसका ज्यादा खतरा होता है|
  3. उम्र – सामान्यता डिप्रेशन किशोरावस्था या फिर 30 से 40 वर्ष की आयु वर्ग के लोगों को होती है लेकिन डॉक्टर के अनुसार माना जाता है की बुजुर्ग लोगों को डिप्रेशन जल्दी ग्रस्त कर देता है। बुजुर्ग लोग डिप्रेशन के प्रति अधिक संवेदनशील होते हैं वह स्वयं को अकेला महसूस करते हैं जिसके कारण उनमें  यह समस्या को मिलती है।
  4. हार्मोन का असंतुलन – हारमोंस का असंतुलन होना भी डिप्रेशन की समस्या को बढ़ावा देता है।  हमारे शरीर में विभिन्न प्रकार के हार्मोन पाए जाते हैं जिसका शरीर के विकास में अलग अलग कार्य होता है मस्तिष्क में  सेरोटोनिन नामक हारमोंस के स्तर की कमी को  डिप्रेशन से जोड़ा जाता है।
  5. व्यक्तिगत समस्याएं – डिप्रेशन की समस्या कई बार व्यक्तिगत समस्याओं के कारणों से भी उत्पन्न होती है जिसमें व्यक्ति स्वयं को मानसिक रूप से दुखी महसूस करता है व्यक्तिगत समस्या जैसे कार्य का दबाव, शादी की समस्या या फिर पारिवारिक झगड़े भी इसका कारण हो सकते हैं।

इसे भी पढ़े :- Heart Attack in Young Age – नौजवानों को हार्ट अटैक क्यों आ रहे है ?

Depression Symptoms in hindi – डिप्रेशन के लक्षण 

डिप्रेशन के लक्षणों की बात करें तो इसके अनेक लक्षण हैं साथ ही इन लक्षणों में से 5 या उससे अधिक लक्षण अगर किसी व्यक्ति में दो या दो से अधिक हफ्तों तक बने रहते हैं तो वह व्यक्ति डिप्रेशन से प्रभावित हो सकता है।

Depression Symptoms in hindi

डिप्रेशन सामान्य लेकिन गंभीर बीमारी है इसका इलाज पूर्णत संभव है इससे आपको घबराने की जरूरत नहीं है जरूरत है जरूरत है तो उचित उपचार और मनोरोग विशेषज्ञ से उचित सलाह की आप उचित सलाह द्वारा पूर्णता इस समस्या से निजात पा सकते हैं डिप्रेशन के कुछ सामान्य लक्षण के बारे में बात करें तो :-

  • बिना किसी कार्य के थकान महसूस करना
  • हताश निराश और चिड़चिड़ापन
  • किसी कार्य में ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई
  • अपराध और बेकार के कार्य की भावना आना
  • दबाव और शराब के सेवन में वृद्धि
  • सिर शरीर में  शरीर में दर्द
  • अत्यधिक नींद या फिर अनिद्रा की समस्या
  • अधिक भूख लगना या फिर भूख की कमी
  • मृत्यु या खुद को नुकसान पहुंचाने का विचार आना
  • मनोरंजन और रूचि में कमी
  • एकाग्र रहने और फैसले लेने में कठिनाई
  • स्वयं  को अयोग्य और असफल मानना
  • बेचैनी और आलस्य होना

What is the Treatment of Depression – डिप्रेशन का उपचार क्या है ?

डिप्रेशन की समस्या से आपको घबराने की आवश्यकता नहीं है आप किसी अच्छे डॉक्टर या मनोरोग चिकित्सक की सलाह ले सकते हैं। आप पहले किसी मनोरोग विशेषज्ञ/चिकित्सक से परामर्श लें वह आपसे डिप्रेशन के लक्षण Depression Symptoms in hindi के बारे में आपसे पूछेगा और आपके उत्तर के आधार पर आपके डिप्रेशन की स्थिति का आकलन करेगा कि आपको किस प्रकार का डिप्रेशन है|

इसके अलावा डिप्रेशन के उपचार के लिए कुछ अन्य प्रकार के साधन भी उपलब्ध हैं जो आपके डिप्रेशन के उपचार में कारगर साबित होंगे जैसे self-help, दवा, काउंसलिंग या उचित परामर्श, वैकल्पिक चिकित्सा तो चलिए इसके बारे में विस्तार से जान लेते हैं :-

  1. सेल्फ हेल्प :-
    डिप्रेशन की समस्या  से निजात पाने के लिए सबसे पहले आपको स्वयं इसके लिए खुद को तैयार करना होगा जैसे आपको नियमित व्यायाम करना होगा अच्छी और  पर्याप्त नींद लेनी होगी दोस्तों और रिश्तेदारों से मिले सुबह शाम खुले में पहले स्वयं को व्यस्त रखने की कोशिश करें अनावश्यक और बुरे विचार ना आने दे धूम्रपान और शराब से दूर रहें।
  2. दवा :-
    मनोरोग चिकित्सक के प्रिसक्रिप्शन के आधार पर एंटीडिप्रेसेंट दवाओ का सेवन करें | यह दवाएँ आपके मस्तिष्क को बदलने में सहायक होंगी।
  3. उचित परामर्श और काउंसलिंग :-
    डिप्रेशन की स्थिति में कई बार उचित परामर्श और काउंसलिंग भी व्यक्ति में डिप्रेशन से जल्द से जल्द मुक्त होने की एक उम्मीद जगा देती है जिसमें काउंसलर या विशेषज्ञ/चिकित्सक व्यक्ति के कौशल विकास में मदद करते हैं|
  4. वैकल्पिक चिकित्सा :-
    जिस प्रकार से डिप्रेशन के अलग-अलग प्रकार हैं ठीक उसी प्रकार से डिप्रेशन का इलाज भी अलग-अलग प्रकार से संभव है हल्के और कम डिप्रेशन से प्रभावित लोग कभी-कभी मात्र सलाह और उचित परामर्श से ठीक हो जाते हैं लेकिन गंभीर रूप से प्रभावित लोग थेरेपी, मालिश, सम्मोहन और बायोफीडबैक आदि से डिप्रेशन की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं।

आखिरी शब्द – याद रखें

डिप्रेशन से जुड़ी सभी जानकारी देने के बाद अब आपको मैं बताना चाहूंगा कि आपको डिप्रेशन को लेकर कुछ विशेष बातों पर ध्यान देना होगा जो डिप्रेशन से राहत पाने के लिए बहुत जरूरी है| डिप्रेशन से ग्रस्त व्यक्ति को इससे छुटकारा दिलाने के लिए दवा से ज्यादा उसके व्यक्तिगत व्यवहार और उसकी जीवनशैली पर ध्यान देना होगा उसे अकेले न रहने दे|

  • डिप्रेशन एक सामान्य लेकिन गंभीर समस्या है जिससे निजात पाने के लिए व्यक्ति को मनोरोग चिकित्सक से सहायता और परामर्श की आवश्यकता होती है|
  • डिप्रेशन जैसी समस्या से जल्द राहत पाने के लिए व्यक्ति और चिकित्सक के साथ-साथ डिप्रेशन से ग्रस्त व्यक्ति के परिवार और दोस्तों का सहयोग भी बहुत जरूरी होता है।
  • डिप्रेशन का इलाज पूरी तरह संभव है डिप्रेशन के अधिकांश व्यक्ति पूरी तरह ठीक हो जाते हैं लेकिन गंभीर रूप से ग्रस्त व्यक्ति लंबे समय में ठीक होते हैं।
  • डिप्रेशन का इलाज के लिए अच्छे मनोरोग चिकित्सक काउंसलर और उचित परामर्श या फिर डिप्रेशन से जुड़ी जानकारी बहुत जरूरी है।

आशा करता हूँ आज की जानकारी Depression Symptoms in hindi आपको जरुर पसंद आई होगी अगर असंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करे | धन्यवाद !

Note :- दी गयी सभी जानकारी डिप्रेशन से जुड़े डाक्टरों/चिकित्सको के परामर्श और उनके दिए गए इंटरव्यूज़ और इन्टरनेट के माध्यम से ली गई है|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here