Global Warming in hindi – ग्लोबल वार्मिंग क्या है और इससे कारण क्या है ?

2
Global Warming in hindi
Share with your friends.

हमारी पृथ्वी एकमात्र ऐसा गृह है जहाँ पर जीवन सम्भव है लेकिन यह कहना गलत नही होगा की आज मनुष्य स्वयं ही इस जीवन दायनी पृथ्वी को समाप्ति की तरफ अग्रसर करता जा रहा है | लगातार बढ़ते हुए प्रदुषण और ग्लोबल वार्मिंग के चलते पृथ्वी बहुत ज्यादा प्रभावित हो रही है और इसका प्रभाव कुछ इस प्रकार का है कि वैज्ञानिको और विशेषज्ञों का मानना है की आने वालो कुछ सालो में हमे इसके बहुत गंभीर परिणाम देखने को मिलेंगे | तो आज मै आपके साथ Global Warming in hindi को लेकर कुछ जरूरी जानकारी को साझा करने वाला हूँ की ग्लोबल वार्मिंग क्या है और इससे क्या कारण है ? तो चलिए ग्लोबल वार्मिंग के बारे में विस्तार से जान लेते है :-

Global Warming in hindi

कम शब्दों में ग्लोबल वार्मिंग को समझे तो पृथ्वी के सामान्य तापमान में हो रही विश्व व्यापी वृद्धी जिसे ग्लोबल वार्मिंग कहा जाता है एस स्तिथि में पृथ्वी अपने सामान्य तापमान से अधिक गर्म हो जाती है | तापमान में वृद्धी के वैसे तो अनेको कारण होते है लेकिन मौसम वैज्ञानिको का कहना है कि ग्लोबल वार्मिंग का मुख्यत कारण ग्रीनहाउस गैस है | तो चलिए ग्लोबल वार्मिंग के बारे में विस्तार से जान लेते है :-

Global Warming in hindi – ग्लोबल वार्मिंग क्या है ?

अगर बात करे ग्लोबल वार्मिंग क्या है,पृथ्वी के वातावरण में सामान्य तापमान में लगातार हो रही वृद्धी को ग्लोबल वार्मिंग कहते है ऐसी स्तिथि में दिन प्रतिदिन धरती में गरमी बढती जा रही है | ग्लोबल मर्मिंग का सबसे बड़ा कारण ग्रीनहाउस गैस है | पृथ्वी पर सूर्य एकमात्र ऊष्मा का प्राकृतिक स्त्रोत है और पृथ्वी सूर्य की किरणों से ही ऊष्मा प्राप्त करती है | यही सूर्य की किरने वायुमंडल से गुजरती हुई पृथ्वी की सतह पर आती है और सतह से टकराकर वापस वायुमंडल में लौट जाती है | Global Warming kya hai

पृथ्वी का वायुमंडल कई प्रकार की गैसों से मिलकर बना हुआ है इनमे से कुछ ग्रीनहाउस गैस भी शामिल है यह ग्रीनहाउस गैस में से अधिकांश गैसे पृथ्वी के ऊपर एक आवरण बना लेती है,जो लौटती किरणों के कुछ हिस्सों को वायुमंडल में रोक लेती है जिससे वातावरण गर्म हो जाता है |

माना जाता है की मनुष्य,पशु-पक्षी,पेड़-पौधे,वनस्पति आदि को जीवित रहने के लिए कम से कम 16° C तापमान की आवश्कता होती है | शोधकर्ताओ का कहना है कि ग्रीनहाउस गैसों के कारण यह आवरण और मोटा होता जा रहा है जो सूर्य की अधिक किरणों को रोकती है और यहीं से ग्लोबल वार्मिंग के दुष्प्रभाव शुरू होते है |

ग्रीनहाउस गैस क्या है ?

ग्रीनहाउस गैस,एक गैस है जो थर्मल इंफ्रारेड रेंज के भीतर उज्ज्वल ऊर्जा को अवशोषित और उत्सर्जित करती है, जिससे ग्रीनहाउस प्रभाव होता है। पृथ्वी के वायुमंडल में प्राथमिक ग्रीनहाउस गैसें जल वाष्प, कार्बन डाइऑक्साइड, मीथेन, नाइट्रस ऑक्साइड और ओजोन हैं।

Global Warming in hindi

ग्लोबल वार्मिंग के क्या कारण है ?

वैसे तो ग्लोबल मार्निंग का मुख्य कारण ग्रीनहाउस गैसे है लेकिन इसी के साथ ग्लोबल वार्मिंग का सबसे बढ़ा कारण है मनुष्य आज मै आपको ग्लोबल मर्मिंग के कुछ कारण बताऊंगा जिसमे मनुष्य की महत्वपूर्ण भूमिका है और स्वयं मानव ग्लोबल वार्मिंग को बढ़ा रहा है, ततो आइये जानते है उन विशेष कारणों के बारे में विस्तार से :- Global Warming in hindi

1.पेड़ो की कटाई

पेड पौधे पृथ्वी पर आक्सीजन का एकमात्र स्त्रोत है और मनुष्य के द्वारा निष्काषित की गई कार्बन डाइऑक्साइड को ग्रहण करते है और ऑक्सीजन छोड़ते है हमने अक्सर ही सुना और पढ़ा है की पृथ्वी के संतुलन को बनाये रखने में पेड़ पौधे अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है इसलिए पेड़ पौधे पृथ्वी का एक अभिन्न अंग है |

आज मनुष्य अपने लाभ और जरूरत के आधार पर पेड़ पौधों को काटता जा रहा है,बढता हुआ औधोगिक क्षेत्र और जनसख्या में लगातार हो रही वृद्धी वनों की कटाई का मुख्य कारण है | बढती हुई जनसख्या के पोषण के लिए खेती के स्तर को बढाया जा रहा है जिसके लिए अधिक मात्रा में जंगलो की कटाई हो रही है |

दूसरी तरह औधोगिक क्षेत्र भी दिन प्रतिदिन अपने पैर पसार रहा है पेड़ पौधे को काटने से ऑक्सीजन में भी कमी हो रही है और उद्योग क्षेत्र से भी बड़ी मात्रा में कार्बन डाइऑक्साइड उत्पन्न हो रही है जो कि काफी चिंतापूर्ण विषय है लेकिन आज के लिए मनुष्य अपने कल को अनदेखा कर रहा है |

2.यातायात प्रदुषण

आज सडको पर चलना भी आसान नही है बढती जनसँख्या के आधार पर सडको पर वाहनों की संख्या भी दिन प्रतिदिन बढती जा रही है,आज मानव छोटे से छोटे काम के लिए अपने वाहन से जाना पसंद करता है | जबकि बहुत कम लोग सार्वजनिक यातायात  वाहन का प्रयोग करते है | ज्यादातर लोग अपने व्यक्तिगत वाहन से ऑफिस जाना या फिर अन्य बाकि कार्यो के लिए जाना पसंद करते है | इन वाहन में इस्तेमाल होने वाले ईधन जैसे डीजल,पेट्रोल आदि के जलने से निकलने वाले धुएं से प्रदुषण होता है | Global Warming kya hai

इस धुएं में कई प्रकार के जहरीले तत्व मौजूद होते है जो वातावरण को प्रदूषित करते है | आज लोग एक वाहन से संतुष्ट नही है नए नये वाहनों को लेने की होड़ में वह अपने पैसो को भी व्यर्थ में खर्च करते है और वातावरण को प्रदूषित भी करने का कारण बन रहे है |

ऐसे में यदि लोग सार्वजनिक वाहनों का अधिक उपयोग करते है जैसे मेट्रो,बस आदि तो इससे सडको पर गाडियों की संख्या भी कम होगी जिससे प्रदुषण में भी कमी होगी | आज बाजार में इलेक्ट्रॉनिक कार और स्कूटर का भी चलन शुरू हुआ है आने वाले समय में यदि इलेक्ट्रॉनिक कार और स्कूटर चलेंगे तो प्रदुषण में कमी आयेगी लेकिन अभी भारत में इसके लिए समय लगेगा |

3.खेती का बढ़ता स्तर

आज भारत विश्व में सबसे ज्यादा जनसख्या वाले देशो की सूची में दुसरे स्थान पर है और इतनी बड़ी जनसख्या का पेट पालने के लिए अधिक से अधिक खाद्य सामग्री की जरूरत होगी और उसके लिए अधिक खेती करनी पड़ेगी जिसके लिए खेती के स्तर में भी बढ़ोतरी करनी होगी जिसके फलस्वरूप जंगलो की कटाई होगी और जंगलो में सफाई के लिए जंगलो को आग के हवाले कर दिया जाता है |

Global Warming in hindi

जंगलो में लगी आग के समय समय पर भयंकर परिणाम सामने देखने को मिलते है यह आग फैलते फैलते शहरी क्षेत्रो तक पहुच जाती है, Global Warming in hindi और दूसरी तरफ जंगलो में लगी भीषण आग से बहुत ज्यादा मात्रा में कार्बन डाइऑक्साइड उत्पन्न होती है जो की वातावरण को प्रदूषित करती है |

बढती आबादी को देखते हुए खेती का स्तर बढ़ रह है और जंगल कम होते जा रहे है लेकिन आज मानव यह भूल गया है की प्रकृति के संतुलन को बनाये रखने के लिए पेड़ पौधों की एहम भूमिका है यदि यह नष्ट हो जायेंगे तो मनुष्य जीवन भी नष्ट हो जायेगा |

4.जीवाश्म ईधन को जलाना

हम सब जानते है जीवाश्म ईधन जैसे कोयला,पेट्रोलियम पदार्थ आदि को जलाने से अधिक प्रदुषण होता है और आप यह भी बखूबी जानते होंगे कि कोयले का सबसे ज्यादा उपयोग बिजली बनाने में किया जाता है | जीवाश्म इंधन के जलने से बड़ी मात्रा में कार्बन डाइऑक्साइड निकलती है जो की वातावरण को प्रदूषित करती है |

समय के साथ साथ जीवाश्म इंधन के विकल्पों के बारे में ध्यान दिया जा रहा है जिसके द्वारा बिजली बनाई जा सके और प्रदुषण भी न हो जैसे सोलर एनर्जी,हाइड्रोइलेक्ट्रिक और पावन ऊर्जा आदि इन सभी के द्वारा भी बिजली का उत्पादन अब बड़े स्तर पर किया जा रहा है और आने वाले समय में काफी महत्वकांक्षी योजनाये आने वाली है | यह प्राकृतिक संसाधन है और कभी समाप्त नही होंगे और न ही इनसे किसी प्रकार का प्रदुषण होगा |

5.लगातार बढ़ता औधोगिक क्षेत्र

आज हर व्यक्ति एक अच्छी नौकरी करना चाहता है जिसके लिए वह खूब मेहनत करता है और पढाई लिखाई करता है लेकिन दिन प्रतिदिन बढती जा रही आबादी के चलते सभी व्यक्तियों को उनकी पसंद की नौकरी मिल सके यह संभव नही है जिसके चलते अक्सर लोग अपना खुद का छोटा मोटा बिज़नस शुरू करते है और ऐसे में अधिक उत्पधन के चलते अधिक ऊर्जा की खपत करते है Global Warming kya hai  जिससे कई प्रकार की जहरीली गैस उत्पन्न होती है और उन गैस से वातावरण प्रदूषित होता है, और दूसरी तरह बढती जनसख्या को देखते हुए लगता है इसका जल्द ही कोई न कोई निवारण खोजना चाहिए नही तो वो दिन दूर नही जब पृथ्वी पर जीवन संकट में आ जायेगा |

ग्लोबल वार्मिंग के प्रभाव

ग्लोबल वार्मिंग के प्रभाव की बात करे तो आज इसके बहुत बुरे परिणाम सामने आ रहे है,पिछले कुछ दशको से हमारी पृथ्वी के सामान्य तापमान में भी बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है और पृथ्वी के तापमान का बढ़ना कोई अच्छा संकेत नही है अगर पृथ्वी का तापमान बढता है तो पृथ्वी पर जीवन संकट में पड़ जायेगा | आइये कुछ विशेष प्रभावों के बारे में जानते है जो ग्लोबल वाम्रिंग के प्रभावों को दर्शाता है :-

  • मौसम और जलवायु में परिवर्तन
  • समुद्र के जल स्तर का बढ़ना
  • दिन का सामान्य तापमान से ज्यादा गर्म होना
  • गंभीर स्वास्थ्य समस्यायें
  • कृषि समस्या

निष्कर्ष

अगर निष्कर्ष की बात करे तो एस परेशानी का केवल एक ही निष्कर्ष है की मानव को प्रकति को ध्यान में रखते हुए अपनी जरूरत और आवश्कता के आधार पर कार्य करने होंगे जिससे प्रकृति भी सुरक्षित रहे अधिक से अधिक पेड़ लगाये जाये | कार्बन डाइऑक्साइड के स्तर को कम करने के लिए अधिक पेड़ लगाये और इसके अलावा यातायात से होने वाले प्रदुषण को रोकने के लिए बढ़ते हुए यातायात पर अंकुश लगाना होगा यह आसान नही है लेकिन असम्भव भी नही है |

इन सब के अलावा और भी बहुत सारे ऐसे कारण है जिसकी वजह से ग्लोबल वार्मिंग में बढ़ोतरी हो रही है अगर इसे समय से पहले नही रोका गया तो वो दिन दूर नही जब पृथ्वी पर से जीवन का अंत निश्चित होगा | तो आशा करता हूँ आज की यह जानकारी Global Warming in hindi  आपको जरुर पसंद आई होगी अगर पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करे | धन्यवाद !

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here