MSME Full form Hindi – MSME क्या है इसके क्या फायदे है ? (MSME in hindi)

MSME Full form Hindi
Share with your friends.

प्रधानमंती श्री नरेद्र मोदी साल 2020 में 20 लाख करोड़ रूपए के एक आर्थिक पैकेज की घोषणा की थी और आत्मनिर्भर भारत अभियान की भी शुरुआत की थी| भारत की मौजूदा केन्द्रीय वित् मंत्री निर्मला सीतारमण ने इसके बारे में विस्तार से जानकारी दी थी | मुख्य तौर पर MSME को लेकर बड़े ऐलान किये गये थे,उनका कहना था की कोरोना काल की इस विकट परिस्तिथि में MSME को उबारना है | तो आज हम MSME Full form Hindi MSME क्या है और इसके क्या फायदे है ? (MSME in hindi ) के बारे में बात करेंगे और जानेगे की आखिर MSME कितना जरूरी है हमारे देश के विकास ले लिए |

MSME सेक्टर देश के 130 लोगो में से लगभग 12 करोड़ से ज्यादा लोगो को रोजगार देता है| यह भारतीय अर्थव्यवस्था की रीढ़ की हड्डी है | आज हम एमएसएमई में आने वाले उद्योगों के बारे में भी जानेंगे और इस सेक्टर को राहत पहुँचाने के लिउए आखिर सरकार ने क्या एहम कदम उठाए है तो आइये इन सब के बारे में हम विस्तार से जानते है :-

MSME Full form Hindi

MSME Full form Hindi :-

एमएसएमई की बात करे या फिर MSME Full form Hindi की बात करे तो Micro,Small and Medium Enterprises (MSME) अर्थात आसान शब्दों में समझे तो सूक्ष्म (Micro), लघु (Small) और मध्यम (Medium)  उद्योग जो कि MSME के अंतर्गत आते है | इसके लिए सरकार ने एक अलग विभाग/मंत्रालय बनाया है जो की इसके ही लिए कार्य करता है |

“MSME Full form Hindi – Micro,Small and Medium Enterprises”

MSME क्या है – MSME in hindi :-

अक्सर ही MSME के बारे में सुनते ही आपके मन में सवाल आता होगा की आखिर यह MSME क्या है  तो चलिए मै आपको बताता हूँ,एक ऐसी योजना है जिसके अंतर्गत सरकार सूक्ष्म,लघु और मध्यम उद्योगों को बढ़ावा देती है और उन्हें अनेको प्रकार के लाभ पहुंचाती है |

सभी उद्योगों को सरकार ने मुख्य तौर पर तीन भागो में बांटा है सूक्ष्म (Micro), लघु (Small) और मध्यम (Medium)  उद्योग | एमएसएमई योजना भारत सरकार ने उद्यम क्षेत्रो को बढ़ावा देने के लिए शुरू की है जिसको देखते हुए इसके लिए एक अलग से मंत्रालय भी बनाया गया है |

यह मंत्रालय विशेष तौर पर एमएसएमई  के लिए कार्य करता है इसका नाम है “सूक्ष्म,लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय (Ministry of Micro,Small and Medium Enterprises” 

यदि छोटे व्यापारी और उद्यमी अपना रजिस्ट्रेशन एमएसएमई के अंतर्गत कराते है तो वह सरकार के द्वारा एमएसएमई सेक्टर के लिए शुरू की गई अनेको महत्वाकांक्षी योजनाओ का लाभ उठा सकते है इसके अलावा आगे मै आपको इसके कुछ विशेष लाभ के बारे में भी बताऊंगा |

MSME के प्रकार – Types ऑफ़ MSME :-

अगर एमएसएमई के प्रकार की बात करे तो जैसा की मैंने आपको ऊपर बताया की MSME के अंतर्गत आने वाली सभी कंपनियों और उद्योगों को तीन भागो में बांटा गया है (Types of MSME) ,सूक्ष्म (Micro), लघु (Small) और मध्यम (Medium) उद्योग तो चलिए अब इसकी कुछ विशेष बातो पर ध्यान देते है :-

MSME के 2006 के नियम के अनुसार :-

  • सूक्ष्म (Micro) उद्योग के अंतर्गत वह सभी उद्योग और कंपनियां आती है जिसका निवेश 25 लाख रूपए तक है |
  • लघु (Small) उद्योग के अंतर्गत वह सभी उद्योग शामिल है जिनका निवेश 5 करोड़ रूपए है |
  • मध्यम (Medium) उद्योग के अंतर्गत वह सभी उद्योग और कंपनियां आती है जिसका निवेश 10 करोड़ रूपए है |

और चलिए अब समझते है नये नियम के अनुसार आखिर क्या लाभ मिले है MSME के उद्योगों को :-

  • नये नियम के अनुसार अब सूक्ष्म (Micro) उद्योग के अंतर्गत वह सभी उद्योग और कंपनियां आती है जिसका निवेश 1 करोड़ है और वो साल भर के अंदर 5 करोड़ रूपए का टर्नओवर करते है |
  • लघु (Small) उद्योग के अंतर्गत वह सभी उद्योग और कंपनियां आती है जिसका निवेश 10 करोड़ रूपए है और उनका टर्नओवर 50 करोड़ रूपए है | MSME Full form Hindi
  • मध्यम (Medium) उद्योग के अंतर्गत वह सभी उद्योग और कंपनियां आती है जिसका निवेश 20 करोड़ रूपए है और उनका टर्नओवर 100 करोड़ है |

तो सरकार ने नए नियम के दौरान MSME सेक्टर के सभी उद्योगों को काफी राहत दी है और उनके चहुमुखी विकास के लिए अग्रसर भी है |

MSME के अंतर्गत उद्योग :-

अब बात करते है की आखिर MSME के अंतर्गत कौन कौन से उद्योग आते है वैसे कहा जाता है कि सभी छोटे उद्योग MSME के अंदर आते है तो चलिए जानते है कौन कौन से ऐसे उद्योग है :-

  • पैक्ड फ़ूड (बिस्कुट,नमकीन,चिप्स,कुरकुरे)   
  • फल-सब्जियां
  • किराना,
  • होटल,
  • रेस्तरा (Restaurant)
  • देरी,मत्स्य,मुर्गी पालन,पशुपालन,मील,फर्नीचर,कॉस्मिक,सलून,ब्यूटी पार्लर, इलेक्ट्रिकल शॉप, बुक्स (Stationery), फोटो-कॉपी शॉप, दर्जी,लैब(जाँच घर),हार्डवेयर,बढई 

इन सब के अलावा 6500+ से भी ज्यादा ऐसे छोटे उद्योग है जो एमएसएमई के अंतर्गत आते है | 

एमएसएमई के लिए कौन रजिस्ट्रेशन करा सकता है :-

MSME Full form Hindi के लिए निम्नलिखित सभी संस्थाये रजिस्ट्रेशन करा सकती है जैसे  

  •  को-ऑपरेटिव सोसाइटी 
  • सरकार और प्राइवेट कंपनी
  • प्रोप्राइटरशिप फर्म
  • पार्टनरशिप फर्म
  • वन पर्सन कंपनी
  • हिन्दू अभिजातीय परिवार
  • स्वयं सहायता समूह
  • सीमित दायित्व भागीदारी 
  • सोसाइटी/ट्रस्ट
  • अन्य 

इसी के साथ सरकार के दिशा निर्देश के अनुरूप कार्य करने वाली विभिन्न कंपनियां इसके लिए रजिस्ट्रेशन करा सकती है| 

एमएसएमई रजिस्ट्रेशन के लिए जरूरी दस्तावेज :-

आप रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया को ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों प्रकार से करा सकते है,इसी के साथ रजिस्ट्रेशन बिलकुल ही मुफ्त है और आपको इस रजिस्ट्रेशन के लिए किसी भी प्रकार का कोई शुल्क नही देना है और यदि आप ऑनलाइन आवेदन करते है तो आपको किसी भी डॉक्यूमेंट को उपलोड करने की भी जरूरत नही है |

साथ ही आपको MSME in hindi रजिस्ट्रेशन के लिए कुछ जरुरी दस्तावेज है जिनकी जरूरत आपको पड़ेगी :-

  • उद्योग शुरू करने के लिए लीगल सर्टिफिकेट
  • उद्योगिक लाइसेंस की कॉपी 
  • व्यवसाय का पता प्रमाण पत्र 
  • मशीनों की खरीद का बिल 
  • आधार कार्ड/पैन कार्ड
  • मोबाइल नंबर/ईमेल आईडी 
  • उद्योग का पैन कार्ड नंबर 

एमएसएमई रजिस्ट्रेशन कैसे करे ?

MSME रजिस्ट्रेशन के लिए आपको MSME की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होगा इसके लिए आप यहाँ पर क्लिक Click Here भी कर सकते है,और न्यू रजिस्ट्रेशन के लिए नीचे आपको उद्यम रजिस्ट्रेशन (Udhyam Registration)  का आप्शन दिखेगा उस पर क्लिक करे | 

अब यहाँ पर आपको अपना आधार नंबर डालना है और आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक OTP जायेगा जिसे आपको भर देना है और Next कर देना है इसके बाद अब आपकी स्क्रीन पर एक फॉर्म दिखेगा जिसमे पूछी गई जानकारों आपको ठीक ठीक भरनी है |

MSME Full form Hindi जानकारी में आपसे आवेदक का नाम, लिंग, ईमेल आईडी, मोबाइल नंबर, पैन कार्ड, उधोग का नाम,पता और पैन नंबर, उद्योग में काम कर रहे कर्मचारियों की संख्या, अपना/उद्योग का बैंक का नाम, बैंक अकाउंट नंबर,IFSC Code, उद्योग का प्रमुख कार्य, NIC Code आदि | 

ऊपर दी गई सभी जानकारी को अच्छे से भरने के बाद अब जब आप अपनी एप्लीकेशन को सबमिट कर देते है तो आपको एक एप्लीकेशन नंबर मिलता है जिसे आपको सेव कर लेना है | 

रजिस्ट्रेशन पूरा होने के बाद अब आपकी वेरिफिकेशन होगी वेरिफिकेशन प्रोसेस पूरा होने के बाद आपको MSME का अप्रूवल मिल जायेगा और आप अपनी एप्लीकेशन नंबर की मदद से अपना MSME सर्टिफिकेट भी MSME की ऑफिसियल वेबसाइट से डाउनलोड कर सकते है |  

MSME रजिस्ट्रेशन के फायदे ?

आपको अपने उद्योग के लिए MSME रजिस्ट्रेशन कराने के अनेको फायदे मिलते है जिससे आप अपने उद्योग को बढ़ा सकते है तो आइये इसके फायदे के बारे में भी जान लेते है :-

1.केंद्र और राज्य सरकार से जल्दी अप्रूवल 

MSME के अंतर्गत सभी कंपनियो और उद्योगों को केंद्र और राज्य सरकारों की तरफ से सरकारी लाइसेंस का अप्रूवल जल्दी मिल जाता है |इसी के साथ MSME में आने वाले सभी सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग को राष्ट्रीय हरित अधिकरण (National Green Tribunal – NGT) की तरफ से भी उद्योग के लिए स्वकृति पत्र मिल जाता है |

2.बैंक से अनेक लाभ 

MSME Full form Hindi रजिस्टर्ड उद्योग या बिज़नस को बैंको की तरफ से भी लाभ मिलता है जैसे MSME रजिस्टर्ड उद्योग के लिए बैंक की तरफ से कम ब्याज दरो पर लोन मुहैया कराया जाता है | बैंक सामान्य व्यापार की तुलना में 1-1.05 प्रतिशत कम ब्याज डर पर लोन मिलता है| 

3.राज्य सरकार की तरफ से छूट 

राज्य सरकार भी MSME के अंतर्गत आने वाले सभी उद्योगों को औद्योगिक बिजली, कर आदि में सब्सिडी उपलब्ध कराती है | एमएसएमई रजिस्टर्ड कंपनियों को सरकार विशेष रूप से बिक्री करो में भी छूट देती है|

4.कर लाभ 

सरकार सभी रजिस्टर्ड उद्योग और कंपनियों को कर में छूट देती है| कुछ प्रावधानों के अनुसार शुरुआत के कुछ वर्षो में प्रत्यक्ष करो में भी छूट मिलती है | सरकार व्यवसाय को स्थापित करने में मदद करती है और विभिन्न प्रकार की सब्सिडी प्रदान करती है| सरकार की मंशा है की MSME सेक्टर के सभी उद्योग अधिक लाभ कमा सके और स्वयं को स्थापित कर सके और दिन प्रतिदिन तरक्की करे |

5.MSME को प्रथम वरीयता 

सरकार MSME को काफी प्राथमिकता देती है और उनका यही प्रयास है की MSME सेक्टर ज्यादा से ज्यादा उन्नति करे जिससे रोजगार के अवसर बढ़े और लोगो को रोजगार मिल सके |

जैसा की मैंने आपको पहले ही बताया की MSME सेक्टर कुल निर्यात का 50 % भाग है और सूक्ष्म,लघु और मध्यम उद्योग कुल उद्योग का 90 % है बाकि 10 % बड़े और भरी उधोग है | इसके अलावा और भी बहुत से कारण है जिसक वजह से सरकार इस सेक्टर को ज्यादा वरीयता देती है | 

आज आपने क्या सीखा :-

तो दोस्तों अब बात करते है की आखिर आज आपने क्या सीखा तो जैसा की मैंने आपको एमएसएमई से जुडी सभी जानकारी जैसे की MSME Full form Hindi – MSME क्या है  इसके क्या फायदे है ? (MSME in hindi) आदि सभी जानकरियो को देने की कोशिश की है और आशा करता हूँ की आपके मन में MSME से जुड़े सभी सवालो के जवाब आपको मिल गये होंगे | 

अगर यह जानकारी आपको पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करे और साथ ही साथ इससे जुड़ा कोई भी सवाल आपके मन में हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में जरुर लिखे और अगर हमारे लिए कोई सुझाव है तब भी नीचे कमेंट जरुर करे | धन्यवाद !